Monday, 12 June 2017

व्यंजन संधि (Vyanjan Sandhi)

व्यंजन संधि

जब व्यंजन का किसी व्यंजन से अथवा स्वर से मेल होता है तो उसे व्यंजन संधि कहते हैं | व्यंजन संधि मुख्यत: दो प्रकार की होती है |


1. घोष या सघोष ध्वनियाँ
2. अघोष ध्वनियाँ


घोष या सघोष ध्वनियाँ


जिन ध्वनियों का उच्चारण करते समय श्वास वायु गले से निकलते समय स्वरतंत्रों में कम्पन पैदा करती है उन ध्वनियों को घोष या सघोष ध्वनियाँ कहा जाता है |

व्यंजन वर्गों के तीसरे, चौथे और पांचवें व्यंजन तथा य् र् ल् व् और ह् सघोष हैं |

अघोष ध्वनियाँ

जिन ध्वनियों का उच्चारण करने में किसी प्रकार का कम्पन नहीं होता वे अघोष ध्वनियाँ होती हैं | वर्ग के पहले और दूसरे व्यंजन तथा विसर्ग अघोष ध्वनियाँ हैं |
वर्ग - ग् , घ् , ङ्
वर्ग - ज् , झ् , ञ्
वर्ग - ड् , ढ् , ण्
वर्ग - द् , ध् , न्
वर्ग - ब् , भ् , म्

ये सभी सघोष ध्वनियाँ हैं इनके अतिरिक्त सभी स्वर भी सघोष हैं |

1. - यदि अघोष व्यंजन ( क् च् ट् त् प् ) के बाद कोई स्वर आए अथवा घोष व्यंजन (ग् ज् ड् द् ब्) आदि आए तो अघोष सघोष में परिवर्तित हो जाता है| अर्थात क् च् ट् त् प् अपने ही वर्ग के तृतीय वर्ण में परिवर्तित हो जाएगा |
क् + अ = ग ==>> दिक् + अम्बर = दिगम्बर
क् + ई = गी ==>> वाक् + ईश = वागीश
ट् + आ = डा ==>> षट् + आनन = षडानन
त् + ई = दी ==>> जगत् + ईश = जगदीश
त् + ग् = द् ==>>> जगत् + गुरु = जगद्गुरु
प् + अ = ब ==>>> सुप् + अन्त = सुबन्त

2. - यदि किसी वर्ग के प्रथम वर्ण के पश्चात कोई पंचम वर्ण अथवा नासिक्य व्यंजन आए तो वह प्रथम वर्ण अपने ही वर्ग के पंचम वर्ण में परिवर्तित हो जाता है | जैसे -
क् + म = ङ्
वाक् + मय = वाङ्मय
ट् + म = N
षट् + मास = षण्मास
त् + न = n
जगत् + नाथ = जगन्नाथ

कभी – कभी स्थिति उलटी भी होती है | 


3. - यदि पंचम वर्ण के बाद प्रथम वर्ण आए तो पंचम वर्ण अपने बाद आए प्रथम वर्ण के पंचम वर्ण में बदल जाएगा | जैसे - 
म् + त्
सम् + तोष = सन्तोष / संतोष
म् + च्
सम् + चय = सञ्चय / संचय

4. - यदि त् और द् के बाद च वर्ग का व्यंजन आए तो त् और द् च वर्ग के व्यंजन के अनुरूप हो जाते हैं | जैसे - 
त् + च् = च्च् 
सत् + चिदानन्द = सच्चिदानन्द / सच्चिदानंद सत् + चरित्र = सच्चरित्र उत् + चारण = उच्चारण 
त् + ज् = ज्ज् 
सत् + जन = सज्जन उत् + ज्वल = उज्ज्वल 
द् + ज् = ज्ज् 
विपद् + जाल = विपज्जाल


5. यदि त् वर्ग के बाद ट् वर्ग हो तो त् वर्ग का व्यंजन ट् वर्ग के व्यंजन में बदल जाता है | जैसे - 
त् + ट्
वृहद + टीका = वृहट्टीका
त् + ड्
उत् + डयन = उड्डयन

6. यदि त् के बाद न् हो तो त् भी न् हो जाता है | जैसे - 
उत् + नत = उन्नत

7. सघोष व्यंजन के बाद अघोष व्यंजन आए तो सघोष का अघोष हो जाता है | जैसे - 
द् + क् = त्क्
आपद् + काल = आपत्कालसद् + कार = सत्कार

8. यदि म् के बाद उष्म व्यंजन (श् ष् स् ह् ) अथवा अन्तस्थ व्यंजन ( य् र् ल् व् ) आए तो म् अनुस्वार (बिंदु) में बदल जाता है | जैसे - 
सम् + शय = संशय
सम् + सार = संसार
सम् + वाद = संवाद
सम् + योग = संयोग

9. यदि पद के अंत में स्वर हो और उसके बाद दूसरे पद के आरम्भ में छ् व्यंजन हो तो छ् के पूर्व च् और जुड़ जाता है | जैसे - 
आ + छादन = आच्छादन
अनु + छेद = अनुच्छेद
परि + छेद = परिच्छेद

10.  यदि पूर्व शब्द के अंत में अ , आ को छोड़कर कोई अन्य स्वर हो और बाद वाले शब्द का पहला व्यंजन स् हो तो स् का ष् हो जाता है | जैसे - 
नि + सिद्ध = निषिद्ध
वि + सम = विषम
सु + सुप्त = सुषुप्त

_______________________________________________
YouTube


Previous Post
Next Post
Related Posts