Tuesday, 7 November 2017

तत्सम और तद्भव शब्द - Tatsama aur Tadbhava Shabd


स्त्रोत या उत्पत्ति के आधार पर -

१. तत्सम – तत् + सम से मिलकर बना है जिसका अर्थ है - उसके समान या ज्यों का त्यों | अर्थात वे शब्द जो संस्कृत से लिए गए हैं और बिना किसी परिवर्तन के अपने मूल रूप में ही हिंदी में प्रयोग किए जाते हैं , तत्सम शब्द कहलाते हैं |

२. तद्भव – तत् + भव से मिलकर बना है जिसका अर्थ है – उससे उत्पन्न अर्थात संस्कृत से उत्पन्न | वे संस्कृत के शब्द हिंदी में कुछ परिवर्तन के साथ प्रयोग किए जाते हैं , तद्भव शब्द कहलाते हैं

तत्सम और तद्भव शब्दों को पहचानने के नियम -

1) तत्सम शब्दों में ‘क्ष’ वर्ण का प्रयोग होता है जबकि तद्भव में ‘क्ष’ का प्रयोग न होकर उसके स्थान पर ‘’ या ‘’ का प्रयोग होता है |


जैसे -

तत्सम तद्भव
अक्षि आँख
अक्षर अच्छर
अंगरक्षक अँगरखा
इक्षु ईख
कुक्षि कोख
क्षत्रिय खत्री
क्षार खार
क्षीर खीर
क्षत छत
पक्ष पंख
लक्ष लाख
लक्ष्मण लखन
ऋक्ष रीछ 

2) तत्सम शब्दों में ‘श्र’ वर्ण आता है जबकि तद्भव शब्दों में ‘श्र’ का प्रयोग नहीं होता | अधिकतर स्थितियों में ‘श्र’ का ‘’ में परिवर्तन हो जाता है |

जैसे -

तत्सम तद्भव
श्रृंग सींग
श्रृंगार सिंगार
श्रेष्ठी सेठ
श्रावण सावन
अश्रु आँसू
आश्रय आसरा

3) तत्सम शब्दों में ‘’ वर्ण का प्रयोग होता है | तद्भव शब्दों में अधिकतर ‘श’ वर्ण के स्थान पर ‘’ का प्रयोग होता है |
जैसे -
तत्सम तद्भव
आशीष असीस
अशीति अस्सी
चतुर्विंश चौबीस
यश जस
राशि रास
शाक साग
शलाका सलाई
श्यामल साँवला
शून्य सूना
शप्तशती सतसई

कुछ शब्द अपवाद भी होते हैं जिनमें ‘श’ के स्थान पर ‘स’ नहीं होता परन्तु उनका रूप परिवर्तित हो जाता है ;

जैसे -
तत्सम तद्भव
क्लेश कलेश
दिशांतर दिशावर
शर्करा शक्कर आदि शब्द

4) तत्सम शब्दों में ‘’ वर्ण का प्रयोग होता है |
तत्सम तद्भव
ओष्ठ ओंठ
काष्ठ काठ
कृषक किसान
कृष्ण किसन
कुष्ठ कोढ़
चतुष्कोण चौकोर
चतुष्पद चौपाया
उष्ट्र ऊँट

5) तत्सम शब्दों में ‘’ की मात्रा का प्रयोग होता है |
जैसे -
तत्सम तद्भव
गृह घर
कृतगृह कचहरी
घृत घी
घृणा घिन
तृण तिनका
मृत्तिका मिट्टी
धृष्ठ ढीठ

6) तत्सम शब्दों में ‘र्’ की मात्रा का प्रयोग ( रेफ या पदेन ) होता है |
जैसे –
तत्सम तद्भव ( रेफ के रूप में )
कर्पूर कपूर
कार्य काज
गर्जर गाजर
कार्तिक कातिक
गर्दभ गधा
कर्ण कान
तत्सम तद्भव ( पदेन के रूप में )
ग्राम गाँव
चक्रवाक चकवा
ताम्र ताँबा
ग्रंथि गाँठ
निद्रा नींद
व्याघ्र बाघ
प्रहर पहर

7) ‘व’ वर्ण वाले तत्सम शब्द तद्भव शब्दों में ‘’ हो जाता है |
जैसे -
तत्सम तद्भव
वानर बन्दर
वणिक बनिया
वत्स बच्चा / बछड़ा
वाणी बैन
वरयात्रा बरात आदि


कुछ अन्य कठिन तत्सम शब्दों के तद्भव रूप इस प्रकार हैं –
जैसे -
तत्सम तद्भव
तिथिवार त्योहार
दंतधावन दतून
पितृश्वसा बुआ
प्रतिवेश्मिक पड़ोसी
ताम्बूलिक तमोली
प्रत्यभिज्ञान पहचान
बलीवर्द
स्फोटक फोड़ा
आरात्रिका आरती

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Previous Post
Next Post
Related Posts